आधा आदमी और मेरी आवाज

आधा आदमी और मेरी आवाज
राजश्री

अपनी पूरी छाया से खेलता
देख अपने समानान्तर अधूरी छाया
कौतुक से ऊपर देखकर
बच्चा हैरानी से चिल्लाया
अरे! आधा आदमी! आदमी आधा!
कांप कर मैने बच्चे को धमकाया
नही नही ऐसा नहीं कहते
सुनकर कडकती आवाज बच्चा सहमा
चुप अपनी आवाज समेटता हुआ
मेरी आवाज!
मैने हर वक्त सुनी
खो न दू कहीं अपनी आवाज,
जीवन–छंद के पूर्ण गान के लिये
हर पल हर सांस
स्वर्ण रजत पहुरूओं के साथ
चार छंदों की एक तान बुनी।

कहां थी मेरी आवाज?
आधे आदमी के बेआवाज प्रश्न
मेरी आवाज बेउत्तर मौन
कहां थी मेरी आवाज?
कभी उठकर रोटियों के सुगन्धित धुऐं में,
कभी उठकर प्यालों की खनखनाहट में,
कभी उठकर साजों की झनकार में,
कभी उठकर मुद्राओं की खनक में,
कभी उठकर चोराहे के भोपुओं में,
कभी उठकर मंत्रों इबाबतों में,
कभी उठकर बारूद के धुंऐ में,
घुटती हुई लरजती हुई
आधे आदमी की सूखी आंखों में
खोती हुई।

सरहद पार जिसे छोडा
वह भी था आधा आदमी
इस पार जो लौटा
वह भी था आधा आदमी
न आवाज न आंसू
नहीं चार छंदों का गान
रोक सके न क्यो
आदमी को आधा आदमी होते हुऐ
बना सके न क्यो
आदमी को एक पूरा आदमी?

बंधु

बंधु
कूल किनारे पर्वत पत्थर वह बहती है
क्षत विक्षत हर क्षण क्षर क्षर होती है पर
किसी तरह सागर में समाना चाहती है
क्यो है अनंत आगार जल खारा
नदी के दुख समेट उसका अंतर रोया
उपर से प्रशांत पर कभी न सो पाया
तिलतिल तपकर भी सरससंदेश लिखता है
श्यामल घटा राग मल्हार में वही सुनाती है
नदी उससे मिलने इसलिये ही दौडती है।

सागर की पीडा और हलचल समझ सके
कौन है वो हवा उसे भली भांति जानती है
सूरज, सावन रंगरेज अनूठे समय का मोल दे
रोशनी, पानी से चुनरियॉ चट्टानें रंगवाती है
हवा गुपचुप गीतों में उन्हे कहानी कहती है
हवाओं की मृदा मीत लहरिये, बांधनी में
झरोखों से झांकते गीतों को ढंक लेती है
बंधु पीडा समेट सागर सी गरिमा जो रख सके
कौन है वो वे भी उसे भली भांति जानती है

हवा सदियों से पावकमाली के स्पंन्दन सुनती है
कास सिवार औढे शिलाऐं उन्हे पर्वत को सुनाती है।